सरकारी विद्यालयों में बीई, बीटेक कम्प्यूटर शिक्षक भर्ती की खुली राह


सरकारी स्कूलों को जल्द ही बीई, बीटेक तथा एमटेक योग्यताधारी कम्प्यूटर शिक्षक मिल सकते हैं। बजट घोषणा 2020-21 में विद्यालयों में कम्प्यूटर शिक्षकों का कैडर बनाने के क्रम में माध्यमिक शिक्षा निदेशालय की ओर से शिक्षा विभाग को वर्तमान स्थिति और कैडर संबंधी प्रस्ताव भेजे हैं।
इसके अनुसार, प्रस्तावित कैडर में तृतीय श्रेणी की पूर्ण भर्ती सीधी भर्ती के आधार पर की जा सकती है। इसके लिए बीई, बीटेक, बीएससी कम्प्यूटर साइंस तथा बीसीए योग्यताधारियों का चयन सीधी भर्ती से किया जा सकता है। इन्हें माध्यमिक और उ. मा. विद्यालयों में कम्प्यूटर शिक्षण के अलावा विद्यालय के ऑनलाइन कार्य, कम्प्यूटर लैब का प्रभार व तकनीकी कार्य सौंपे जा सकते हैं। वहीं, ग्रेड द्वितीय की 50 प्रतिशत भर्ती सीधे ही व 50 प्रतिशत पदोन्नति के आधार पर की जा सकती है। इसमें बीई तथा बीटेक योग्यताधारी को मौका दिया जाएगा।
वहीं, फस्र्ट ग्रेड व्याख्याता के लिए 50 प्रतिशत सीधी भर्ती और 50 प्रतिशत पदोन्नति के आधार पर होगी। इसकी योग्यता एमई, एमटेक तथा एमएससी आदि होगी। वहीं, अतिरिक्त वैकल्पिक विषय पद का सृजन केवल स्टाफिंग पैटर्न मानदंड के अनुसार होगा।
राजस्थान प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा संघ के वरिष्ठ उपाध्यक्ष विपिन प्रकाश शर्मा कहना है कि विद्यालयों में शालादर्पण, पे मैनेजर आदि का कार्य विषय अध्यापक के जिम्मे रहने से कार्य प्रभावित होता है। नया कैडर बनने से काफी सहूलियत होगी। जानकारी के अनुसार 10985 विद्यालयों में तृतीय श्रेणी और 3616 में द्वितीय श्रेणी शिक्षकों की आवश्यकता है। स्कूलों में अभी तक कम्प्यूटर शिक्षा कॉन्ट्रेक्ट पर ही रही है।

बजट पारित होने के बाद इस विषय पर विस्तृत चर्चा की जाएगी। इसके लिएसुझाव और जानकारियां मांगी जा रही हैं।
गोविंद सिंह डोटासरा, शिक्षा राज्यमंत्री


Post a Comment

0 Comments